Thursday, 6 December 2012

हम यूँ ही हसरते ताबीर नहीं कर सकते


ख्वाब को पावं की जंजीर नहीं कर सकते
हम यूँ ही हसरते ताबीर नहीं कर सकते

सामने जो है मुकद्दर का लिखा हैं लेकिन
फिर भी हम शिकवा ए तक़दीर नहीं कर सकते

जब बुलाएगी हमें मौत चले जाएंगे
उज़र की ब़ायस ए ताखीर नहीं के सकते

जिंदगी मेरी तरह तू भी मुसाफिर है मगर
हम तुझे हमनवां रहगीर नहीं कर सकते

प्यार इंसान को नाकारा बना देता है
प्यार में तुम तुम कोई तदबीर नहीं कर सकते


क्या करेंगे वो भला शेर ओ सुखन की बातें 
लोग जो शाख़ को शमशीर नहीं कर सकते 

आप तो फिर भी  बड़े है क्या कहे आपको हम 
अपने बच्चों की भी तहकीर नहीं कर सकते 


khwab ko pavn ki zanjeer nahi kar sakte
ham yuN hi hasrate taabeer nahi kar sakte

samne jo hai muqaddar ka likha hai lekin
phir bhi ham shikwa e taqdeer nahi kar sakte

jab bulayegi hameN maut chale jayeNge
uzr ik bayes e takheer nahi kar sakte

zindagi meri tarah too bhi musafir hai magar
ham tujhe hamnawa rehgeer nahi kar sakte

pyar insan ko nakara bana deta hai
pyar men tum koi tadbeer nahi kar sakte..

kya kareNge wo bhala sher o sukhan ki bateN
log jo shaakh ko shamsheer nahi kar sakte

aap to fhir bhi bade hai  kya kahe aapko hum
ham ti chhotoN ki bhi tehqeer nahi kar sakte



No comments:

Post a Comment