Sunday, 4 November 2012

मेरी आँखों में जो आंसू है गुहर जैसा है


shab guzeeda hai magar fir bhi sahar jaisa hai
meri aankho mein jo aansu hai guhar jaisa hai 

mulq bantne se bhi haalaat nahi badle hai
haal jo sabka idhar hai wo udhar jaisa hai 

nabz madham hai tawazun mein nahi hai dhadkan 
in dino haam mera zer o zabar jaisa hai 

ghurti rahti hai pinzre ki salakhe mujhko 
ab to mahaoul qafas bhi mere ghar jaisa hai 

 tu mere saath mere gham mein khushi mein hain shreeq 
tujhse rishta ye mera sheer o shkar jaisa hai 

raudati rahti hoon apna hi main lasha hardam 
mere qadmo'n mein jo hai mere hi sar jaisa hai 

tere daaman ki havao'n se bhadak jaayege 
dil ka har zakhm mere dost sharar jaisa hai .(.misra tahah)

misra e tarha tha dushvaar magar fir bhi siya 
pesh to kar hi diya maine hunar jaisa hai 


शब् गुज़ीदा है मगर फिर भी सहर जैसा है 
मेरी आँखों में जो आंसू है गुहर जैसा है 

मुल्क़ बंटने से भी हालात नहीं बदले है'
हाल जो सबका इधर है वो उधर जैसा है 

नब्ज़ मद्धम है तवाज़ुन में नहीं है धड़कन 
इन दिनों हाल मेरा ज़ेर ओ ज़बर जैसा है ..

घूरती रहती है पिंजरे की सलाखे मुझको 
अब तो माहौल ए क़फ़स भी मेरे घर जैसा है ................

तू मेरे साथ मेरे ग़म में ख़ुशी में है शरीक़ 
तुझसे रिश्ता मेरा कुछ शीर ओ शकर जैसा है 

रौंदती रहती हूँ अपनी ही मैं लाशा हरदम 
मेरे क़दमों में जो है मेरे ही सर जैसा है 

तेरे दामन की हवाओं से भड़क जायेगे 
दिल का हर ज़ख्म मेरे दोस्त शरर जैसा है 

मिसरा ए तरहा था दुश्वार मगर फिर भी सिया 
पेश तो कर ही दिया मैंने हुनर जैसा है ................

1 comment:

  1. Siya Jee.. Nice One.. Please send me your details on my mail id..

    Please visit my Blog
    http://viralgajjar.blogspot.com

    ReplyDelete