Wednesday, 28 November 2012

नज़्म ...तसव्वुर टूट जाता है .



सभी को यूं तो दुनिया में हजारों लोग मिलते है मगर इस भीड़ में मुझको नज़र तुम ही नहीं आते तुम्हे मैं ढूढती फिरती हूँ सहराओं में गुलशन में चमन में और बियाबाँ में जहाँ तक रौशनी सूरज की पहुंची है वहां तक भी वहां तक फ़िक्र की परवाज़ पहुची है जहाँ तक भी तुम्हे ढूढा नदी के पानियों की इन रवां लहरों में तुम हो क्या ? न जाने क्यों मुझे अक्सर यहीं एहसास होता है ज़मीं से ता _फ़लक नज़रों में इक इक पल तुम्हें ढूंढा तुम्हे ढूंढा तमन्नाओं के उन गुस्ताख लम्हों में संजोया है जिन्हें दिल के निहां खानों में खुद मैंने , मगर अफ़सोस होता है तुम्हे पाने की हसरत में मैं खुद को ही गवां बैठी मगर तुम मिल नहीं पाए कभी तो आके धीरे से मेरी वीरान आँखों में कोई इक दिलनशीं सा ख्वाब बन कर ही समां जाओ कभी तो हौले हौले से मेरी बे रब्त सांसो में नयी खुशबू बनो और रूह में तहलील हो जाओ किसी दिन यूं अचानक से मुझे आकर ये समझाओ ये कैसा हाल कर बैठी ये चेहरा ज़र्द सा क्यूँ है ये चेहरे से उलझते गेसुओं की जिंदगी कैसी अगर बेनूर है आँखे तो कोई रौशनी कैसी कभी मैं खिलखिलाती थी किसी मासूम बच्चे सी हमेशा मुस्कुराती थी कभी गुंचा _दहन जैसी 
जो मेरी जान था कल तक वो ख़ुद गाफ़िल हुआ शायद कभी तो कहदे वो आ कर तेरे बिन जी नहीं सकता इसी उम्मीद में अक्सर बिखर कर टूट जाती हूँ नहीं था जिस्म से मतलब मुझे थी रूह से निस्बत नज़र आता नहीं कोई कहीं पर भी तेरे जैसा तस्सवुर जब खयालों में तेरी सूरत बनाता है वो सूरत देखती हूँ मैं न उस में रंग है तेरा न तेरे जिस्म की खुशबू तसव्वुर तो फ़क़त इक अक्स है मुबहम ख्यालों का जो अक्सर टूट जाता है मैं बेबस देखती रहती हूँ झूठे अब्गीनों को जो अक्सर फूट जाते है फलक से कहकशाँ बन कर सितारे टूट जाते हैं sabhi ko yuN to duniya meiN
hazaro'n log milte hai
magar is bheed men mujhko
nazar tum hi nahi aate
tumeh main dhoondti phirti hooN
sehraoN meN gulshan meN
chaman meN or biyabaaN men
jahaN tak roshni sooraj ki pahuNchi he
wahaN tak bhi
wahan tak fiqr ki parwaz pahunchi hai 
jahan tak bhi tumhe dhundha 
nadi ke paniyoin rawan lahro'n mein
tum ho kya?
na jane kyo mujhqsar yaheen ehsaas hota hai
zame'n se ta_falaq nazro'n mek ik ik pal 
tumhe dhudha 

tunheN dhoonda tamannaoN ke
un gustaakh lamhoN meN
sanjoya hai jinhe dil ke nihan khano mein
khud maine 
magar afsos hota he
tumheN pane ki hasrat meN
meN khud ko hi gaNwa baithi
magar tum mil nahi paye
kabhi to aake dheere se miri veeran aankhoN men
koi ik dilnasheeN sa khwab bankar hi sama jao
kabhi to hole hole se meri berabt saaNsoN men
nayi khushbu bano aur rooh mein tehleel ho jao
kisi din yuN achanak se
mujhe aakar ye samjho
ye kaisa haal kar baithi
ye chehra zard sa kyo hai 
ye chehre se uljhte gesuon ki zindgi kaisi 
agar benoor hai aankhe to koyi roshni kaisi 
kabhi main khilkhilati thi kisi masoom bachche si
hamesha muskurati thi kisi ghuncha_dahan jaisi 
jo meri jaan tha kal tak
wo khud gafil hua shayad 
kabhi to keh de wo aakar
tere bin jee nahi sakta 

isi ummid men aksar bikhar kar tut jaati hoon
nahi tha jism se matlab 
mujhe thi rooh se nisbat 
nazar aata nahi koyi
kaheen par bhi tere jaisa 
tasawwur jab khyaalo'n mein 
teri surat banata hai 
wo surat dekhti hoon main 
na us mein rang hai tera 
na tere jism ki khushboo 
taswwur to faqat ik aks hai 
mubham khayalo'n ka 
jo aksar tu jaata hai
main bebas dekhti rahti hoon
jhoothe "AabgeenoN" ko 
jo aksar Fhoot jate hai 
falaq se kahkashan ban kar
sitare Toot jaate hai'n

No comments:

Post a Comment