Sunday, 4 November 2012

उसकी के साए में रहती है जिंदगी महफूज़


हमेशा रखती है इंसान को मौत ही महफूज़ 
उसकी के साए में रहती है जिंदगी महफूज़

असीर ए गर्दिश ए अयाम है ये रोज़ ओ शब् 
न कोई दिन रहा कायम न रात भी  महफूज़ 

बहा के ले गया सब सैल ए आब अश्कों का 
नहीं है आँख में अब एक ख्व़ाब भी महफूज़ 

अजब निज़ाम ए गुलिस्तां है बागबां  तेरा 
उजड़ गया है कोई ,हो गया कोई महफूज़ 

न एहतेमाम ए तकद्दुस,न एहतराम ए बहार 
रहेगी कैसे गुलों की शगुफ्तगी महफूज़ 

उजाले बांटता रहता  है जो ज़माने को 
उसी चराग़ के नीचे है तीरगी महफूज़ 


hamesha rakhti hai insaan ko maut he mehfooz
usi ke saaye mein rahti hai zindagi mehfooz
aseer e gardish e ayyam hai ye roz o shab
na koi din raha qayam na raat bhi  mehfooz

baha ke le gaya sab sail e aab ashkoN ka
nahiN hai aaNkh meN ab ek khwab bhi mehfooz

ajab nizaam e gulistaN hai baaghbaaN tera
ujad gaya hai koi, ho gaya koi mehfooz

na ahtimam e taqaddus, na ehtram e bahaar
rahegi kaise guloN ki shaguftagi mehfooz

ujale bant'ta rahta hai jo zamane ko 
usi charag ke neeche hai teergi mehfooz 


No comments:

Post a Comment