Wednesday, 28 November 2012

ज्ञान से रोशन हो जाए ये सारा संसार



ज्योतिर्मय सबको करे दूर करे अन्धकार
ज्ञान से रोशन हो जाए ये सारा संसार 
दमक ये ज्योति-पर्व की आलोकित संसार
दीपों की जगमग से हैं  फैला सा उजियार
कैसे छोटा सा दीपक दूर करे अंधियार
तिमिर मिटाता जगत से , रोशन हो संसार
सच्चे दिल से जो करे दीन के हित उपकार
लक्ष्मी जी खुद आयेगी चल कर उसके दवार
लो आया है फिर से दीपों का त्यौहार
हसी ख़ुशी के साथ मनाये ,संग  पूरे परिवार ..
मनभावन रंगोली से सजा हुआ है द्वार
सब में नव उत्साह है उल्लासित है परिवार
चारो ओर प्रकाश हो चमक गया संसार
आओ मिलकर सदगुण को भी कर ले अंगीकर
खुशियाँ लेकर आया है फिर से ये त्यौहार
मन हर्षाये देख कर दीपों सजी कतार 

No comments:

Post a Comment