Wednesday, 12 September 2012

लब चटखते हैं मुस्कुराने से

रंज इतने मिले ज़माने से 
लब चटखते हैं मुस्कुराने से 

धुंधली धुंधली सी पड़ गयी यादें 
ज़ख्म भी हो गए पुराने से 

मत बनाओ ये कांच के रिश्ते 
टूट जायेगे आज़माने से 

तीरगी शब् की कम नहीं होगी 
घर के अन्दर दिये जलाने से

अक्ल ने दिल को कर दिया हुशियार
बच गए हम फ़रेब खाने से

हो ही जायेगे सब रिहा इक दिन
छूट जायेगे क़ैदखाने से

ए सिया तंग आया चुकी हूँ मैं
हौसला की चिता जलाने से .....

ranz itne mile zamane se
lab chatkhte hai muskuraane se

dhundhli dhundhli se pad gayi yaade
zakhm bhi ho gaye puraane se

mat banao ye kanch ke rishte
tut jayege aazmaane se

teergi shab ki kam nahi hoti
ghar ke andar diya jalaane se

akl ne dil ko kar diya hushiyaar
bach gaye hum fareb khane se

ho hi jaayege sab riha ik din
chhoot jaayege qaidkhane se

aye siya tang aa chuki hoon main
houslo'n ki chita jalaane se

1 comment:

  1. ek ek sher "mala ka moti" ban pada hai.
    is gazal ke liye mera abhiwadan sweekar karen...

    ReplyDelete