Wednesday, 12 September 2012

उजाला हो न सका फिर भी हर किसी के लिए

चराग़ ए राह जलाया था रौशनी के लिए 
उजाला हो न सका फिर भी हर किसी के लिए 

जुनून ए इश्क न बह, बन के खून के आंसू 
अभी लहू की जरूरत है ज़िन्दगी के लिए 

हर एक शख्स को दिल में जगह नहीं मिलती 
यहाँ तो होती है इज्ज़त किसी किसी के लिए 

ये उम्र ग़म के सहारे गुज़र तो जाती है 
मगर ख़ुशी भी तो लाज़िम है आदमी के लिए

किसी को क्या है ग़रज़ तुझको क़त्ल करने की
तेरा ग़रूर ही काफी है ख़ुदकुशी के लिए

कोई भी बंदा मेरा सर झुका न पायेगा
ये सर झुकेगा सिया तेरी बंदगी के लिए

CHARAGH-E-RAH JALAYA THA RAOSHNI KE LIYE ..
UJALA HO N SAKA PHIR BHI HAR KISI KE LIYE ..

JUNOON_E_ISHQ N BAH, BAN KE KHOON KE AANSU.
ABHI LAHU KI JAROORAT HAI ZINDGI KE LIYE .

HAR EK SHAKHSH KO DIL ME JAGAH NAHIN MILTI ..
YAHAN TO HOTI HAI IZZAT KISI KISI KE LIYE ..

YE UMR GHAM KE SAHARE GUZAR TO JATI HAI .
MAGAR KHUSHI BHI TO LAZIM HAI AADMI KE LIYE ..

KISI KO KYA HAI GHARAZ TUJH KO QATL KARNE KI .
TERA GHUROOR HI KAFI HAI KHUDKUSHI KE LIYE ..

KOI BHI BANDA MIRA SAR JHUKA N PAYEGA ..
YE SAR JHUKEGA SIYA TERI BANDGI KE LIYE ..

No comments:

Post a Comment