Sunday, 2 September 2012

आज तक खाती रही खुद पर तरस

हाथ कुछ आया नहीं अब और बस
आज तक खाती रही खुद पर तरस 

उस जगह भी खिल उठे ताज़ा गुलाब
जिस जगह बोया गया था कैक्टस --

फूल ऐसे भी चमन में हैं हुज़ूर
छू नहीं सकता जिन्हें कोई मघस

अब्र है तो फिर भिगो दे ये ज़मीन
अश्क.है तो फिर मिरे दिल पर बरस -

जब तिरे बारे में सोचा है तो फिर
थक गयी है ज़ेहन की इक एक नस -

फिर उदासी रक्स आमादा हुई
मेरे घर तन्हाई को देखा की बस .

ए "सिया " मैं हो रही हूँ मुज्महिल
देख कर हिरस ओ हवस के ख़ार ओ ख़स

Haath kuch aaya nahi'n ab aur bus
Ajj tak khati rahi khud par taras

Us jagah bhi khil uthe taza gulab
jis jagah boya gaya tha kaktas

Fhool aise bhi chaman mein hai huzoor
Choo nahi'n sakta jinhe koi maghas

Abr hai to phir bhigo de ye zameen
Ashq hai to fir mire dil pe baras

Jab tire baare me socha hai to phir
Thak gayi hai zehan ki ik ek nas

Fir udasi raqs aamaada hui
Mere ghar tanhayi ko dekha hi bus

Ai "siya"main ho rahi hoon muzmahil
dekh kar hirs o hawas ke khar o khas

No comments:

Post a Comment