Sunday, 20 May 2012

अगर मेरी भी माँ होती तो मुझको भी ख़ुशी होती

God could not be every where so HE made mothers.
Happy Mothers Day....

ख़ुदा के रूप में हमको अगर न माँ मिली होती 
तो न दुनिया ही होती न हमारी ज़िन्दगी होती 

तेरे आँचल के साये की न सर पे चांदनी होती 
तो ए माँ धूप की सारी तपिश मैंने सही होती 

अगर दुनिया समझ लेती तेरे क़दमों में जन्नत है 
ना फिर महरूम दुनिया तेरी ख़िदमत से रही होती

मुझे हासिल हैं सब कुछ आज तेरी ही दुआओं से
जो तुम भी पास में होती,तो मुझको क्या कमी होती

किसी की माँ को मैं देखू तो मन में ये ख्याल आये
अगर मेरी भी माँ होती तो मुझको भी ख़ुशी होती

सिया मैं बेटियों के सारे ग़म ख़ुद दूर कर देती
जो मेरी फिक्र की आँखों में इतनी रोशनी होती

..khuda ke roop mein hamko agar na maa mili hoti
to na duniya hi hoti na hamari zindgi hoti

tere aanchal ke saaye ki na sir pe chaNdnee hoti
To aye maaN dhoop ki saari tapish main ne sahee hoti

Agar duniya samajh leti tere qadmoN meN jannat hai
Na phir mehroom duniya teri Khidmat se rahi hoti

mujhe hasil hai sab kuch aaj teri hi duaon se
jo tum bhi pass hoti ma n fir koyi kami होती

kisi ki ma ko main dekhu to man mein ye khyaal aaye
agar meri bhi maan hoti to mujhko bhi khushi hoti

siya main betiyon ke saare gham khud door kar deti
jo meri fiqr ki ankhon mein itni roshni hoti

रो रहा है दिल मगर आँखों में आंसू भी नहीं

गैर की क्या बात कीजे अपना जब तू भी नहीं 
अब सुनहरे ख़्वाब का आँखों में जुगनू भी नहीं

क्या बताऊ आज कल किस हाल में जिंदा हूँ मैं
मुस्कराहट भी नहीं आँखों में आंसू भी नहीं 

जिन निगाहों की कशिश से खिंच के आ जाते थे तुम 
क्या करू मेरी नज़र में अब वो जादू भी नहीं 

तर्क- ए -उल्फत का इरादा तो किया मैंने मगर 
ख़ुद पे मेरा बस नहीं और दिल पे भी क़ाबू नहीं

रोते रोते हो गयी हैं खुश्क आँखे क्या करू
दर्द के इज़हार को आँखों में आंसू भी नहीं

क्या कहे ये दूरियां किस्मत का सारा खेल हैं
सच तो ये है बेवफ़ा मैं भी नहीं तू भी नहीं

अपने ग़म का ए 'सिया' कुछ इस तरह रक्खा भरम
रो रहा है दिल मगर आँखों में आंसू भी नहीं

Gair kee kya baat keeje apna jab too bhee naheen
Ab sunhare khwaab ka aankhon mein jugnoo bhee nahi

Kya bataooN aaj kal kis haal meN zindah hooN maiN
Muskurahat bhi nahiN aankhoN men aansu bhi nahi

Jin nagaahoN ki kashish se khinch ke aa jaate the tum
Kya karooN meri nazar meN ab woh jaadu bhi nahiN

Tark-e ulfat ka iradah tou kiya maiN ne magar
Khud pe mera bus nahiN aur dil pe qaabo bhi nahiN



Rote rote ho gayeen hain khushk aaNkhen kya karoon
Dard ke izhaar ko aankho'n mei'n aa'nsoo bhee nahi

Kya kahen yeh dooriyaN qismat ka sara khel haiN
Sach tou yeh hai befawa maiN bi nahiN too bhi nahiN

Apne Gham ka e :Siya: kuch is tarah rakhkha bharam
ro raha hain dil magar aankho'n mein aa'nsoo bhi nahi

..

Saturday, 12 May 2012

क़ैद पंछी को अब रिहाई तो दे.


तेरा किरदार कुछ दिखाई तो दे
,मेरे दामन में कुछ बुराई तो दे.

मेरे दिल को सुकून मिल जाए,
मेरा मुहसिन मुझे दिखाई तो दे.

तूने पी तो लिया है सारा लहू,
क़ैद पंछी को अब रिहाई तो दे.

मेरी ख्वाहिश का अह्तिराम तो कर
,कुछ न दे तू मुझे जुदाई तो दे.

हाल मेरा कभी तो वो जाने 
आह उसको "सिया" सुनाई तो दे. 

मैं ख़ुदनुमाई से इंकार करने वाली हूँ


मुखाफ़िलीन पे यलग़ार करने वाली हूँ
मैं आंसुओ की नदी पार करने वाली हूँ

मुझे ख़ुदा की रज़ा से है वास्ता हर दम 
मैं  ख़ुदनुमाई से इंकार करने वाली हूँ

मैं कर ना पाऊँगी बैयत निज़ामे-बातिल से
 इसी सबब से मैं इनकार करने वाली हूँ

ये उसकी मर्ज़ी के इक़रार वो करे न करे
मैं आज ख्वाहिशे इज़हार करने वाली हूँ 

वो जिसने की है हमेशा मुखालिफ़त मेरी
 उसी को अपना मददगार करने वाली हूँ 

वफ़ा की राह में ख़ुद को तबाह कर के मैं
 तमाम शहर को बेदार करने वाली हूँ 

महो _नुजूम ज़मीं पर उतर न आये कहीं 
सिया मैं सबको खबरदार करने वाली हूँ ...

mukhafileen pe yalgaar karne wali hoon
 main aansuo ki nadi paar karne wali hooN

mujhe khuda ki raza se hai wasta har dam 
main khud numayi se inkaar karne wali hoon 

main kar na paungi baiyat nizam e batil se
 isi sabab se main inkaar karne wali hoon 

ye uski marzi ke iqrar wo kare na kare 
main aaj khwahish.e izhaar karne wali hoon 

wo jisne ki hai hamesha mukhalifat meri
 usi ko apna madadgar karne wali hoon 

wafa ki raah mein khud ko tabah kar ke main
taman shahar ko bedaar karne wali hoon 

maho nuzum zamee'n par utar n ayae kaheen 
siya main sabko khbardaar karne wali hoon

मैं चल रही हूँ वक़्त की रफ़्तार की तरह

दुनिया की ख्वाहिशों के तलबगार की तरह 
मैं चल रही हूँ वक़्त की रफ़्तार की तरह 

आमाल जिसके थे सभी ग़द्दार की तरह
साबित हुआ हैं वो भी वफ़ादार की तरह

मुझको कहा पे लायी मेरी इन्किसारियां (विनम्रता )
हर शख्स देखता है तलबगार की तरह

ये क्या हुआ की आज तो बिकना पड़ा उसे
कल तक तो लग रहा था ख़रीदार की तरह

ये कौन आ गया मेरी नज़रों के सामने
ख़ुद हाथ जुड़ गए है नमस्कार की तरह

सच बोलने के ज़ुर्म की इतनी बड़ी सज़ा
हर शख्स देखता हैं गुनाहगार की तरह शख्स

अपनी अना के ख़ोल से बाहर न आ सकी
परवरदिगार _ए _शब् के गुनाहगार की तरह

हर आदमी का मोल लगाये है आदमी
दुनिया ये हो गयी किसी बाज़ार की तरह

duniya ki khwahishon ke talab gar ki tarah
main chal rahi hoon waqt ki raftaar ki tarah

aamaal jiske the sabhi gaddar ki tarah
sabit hua hai wo bhi wafadaar ki tarah

mujhko kaha pe layi meri inqkisariyaa'n (vinmarta )
har shkhs dekhta hain talabgaar ki tarah

pal pal badal raha ye mausam mizaaj ka
mausam bhi ho gaya hai mere yaar ki tarah

ye kya hua ki aaj to bikna pada use
kal tak to lag raha khreedaar ki tarah

ye kaun aa gaya meri nazro,n ke samne
khud hath jud gaye hai namskaar ki tarah

sach bolne ke jurm ki itni badi saza
har shkhs dekhta hai gunahgaar ki tarah

apni ana ke khool se bahar n aa saki
parvardigar_e_shab ke gunahgaar ki tarah

har aadmi ka mol lagaye hai aadmi
duniya ye ho gayi kisi bazaar ki tarah
..