Saturday, 12 May 2012

मैं चल रही हूँ वक़्त की रफ़्तार की तरह

दुनिया की ख्वाहिशों के तलबगार की तरह 
मैं चल रही हूँ वक़्त की रफ़्तार की तरह 

आमाल जिसके थे सभी ग़द्दार की तरह
साबित हुआ हैं वो भी वफ़ादार की तरह

मुझको कहा पे लायी मेरी इन्किसारियां (विनम्रता )
हर शख्स देखता है तलबगार की तरह

ये क्या हुआ की आज तो बिकना पड़ा उसे
कल तक तो लग रहा था ख़रीदार की तरह

ये कौन आ गया मेरी नज़रों के सामने
ख़ुद हाथ जुड़ गए है नमस्कार की तरह

सच बोलने के ज़ुर्म की इतनी बड़ी सज़ा
हर शख्स देखता हैं गुनाहगार की तरह शख्स

अपनी अना के ख़ोल से बाहर न आ सकी
परवरदिगार _ए _शब् के गुनाहगार की तरह

हर आदमी का मोल लगाये है आदमी
दुनिया ये हो गयी किसी बाज़ार की तरह

duniya ki khwahishon ke talab gar ki tarah
main chal rahi hoon waqt ki raftaar ki tarah

aamaal jiske the sabhi gaddar ki tarah
sabit hua hai wo bhi wafadaar ki tarah

mujhko kaha pe layi meri inqkisariyaa'n (vinmarta )
har shkhs dekhta hain talabgaar ki tarah

pal pal badal raha ye mausam mizaaj ka
mausam bhi ho gaya hai mere yaar ki tarah

ye kya hua ki aaj to bikna pada use
kal tak to lag raha khreedaar ki tarah

ye kaun aa gaya meri nazro,n ke samne
khud hath jud gaye hai namskaar ki tarah

sach bolne ke jurm ki itni badi saza
har shkhs dekhta hai gunahgaar ki tarah

apni ana ke khool se bahar n aa saki
parvardigar_e_shab ke gunahgaar ki tarah

har aadmi ka mol lagaye hai aadmi
duniya ye ho gayi kisi bazaar ki tarah
..

1 comment:

  1. दुनिया की ख्वाहिशों के तलबगार की तरह
    मैं चल रही हूँ वक़्त की रफ़्तार की तरह

    हर आदमी का मोल लगाये है आदमी
    दुनिया ये हो गयी किसी बाज़ार की तरह

    kitna sach likh deti hai....bahut khoob

    ReplyDelete