Saturday, 12 May 2012

मैं ख़ुदनुमाई से इंकार करने वाली हूँ


मुखाफ़िलीन पे यलग़ार करने वाली हूँ
मैं आंसुओ की नदी पार करने वाली हूँ

मुझे ख़ुदा की रज़ा से है वास्ता हर दम 
मैं  ख़ुदनुमाई से इंकार करने वाली हूँ

मैं कर ना पाऊँगी बैयत निज़ामे-बातिल से
 इसी सबब से मैं इनकार करने वाली हूँ

ये उसकी मर्ज़ी के इक़रार वो करे न करे
मैं आज ख्वाहिशे इज़हार करने वाली हूँ 

वो जिसने की है हमेशा मुखालिफ़त मेरी
 उसी को अपना मददगार करने वाली हूँ 

वफ़ा की राह में ख़ुद को तबाह कर के मैं
 तमाम शहर को बेदार करने वाली हूँ 

महो _नुजूम ज़मीं पर उतर न आये कहीं 
सिया मैं सबको खबरदार करने वाली हूँ ...

mukhafileen pe yalgaar karne wali hoon
 main aansuo ki nadi paar karne wali hooN

mujhe khuda ki raza se hai wasta har dam 
main khud numayi se inkaar karne wali hoon 

main kar na paungi baiyat nizam e batil se
 isi sabab se main inkaar karne wali hoon 

ye uski marzi ke iqrar wo kare na kare 
main aaj khwahish.e izhaar karne wali hoon 

wo jisne ki hai hamesha mukhalifat meri
 usi ko apna madadgar karne wali hoon 

wafa ki raah mein khud ko tabah kar ke main
taman shahar ko bedaar karne wali hoon 

maho nuzum zamee'n par utar n ayae kaheen 
siya main sabko khbardaar karne wali hoon

1 comment:

  1. वफ़ा की राह में ख़ुद को तबाह कर के मैं
    तमाम शहर को बेदार करने वाली हूँ

    tu khud ko tabaah na kar hone de ruswa unko
    jo ishq-o-wafa ki jameen pe hawas ko palte hai

    ReplyDelete