Sunday, 20 May 2012

रो रहा है दिल मगर आँखों में आंसू भी नहीं

गैर की क्या बात कीजे अपना जब तू भी नहीं 
अब सुनहरे ख़्वाब का आँखों में जुगनू भी नहीं

क्या बताऊ आज कल किस हाल में जिंदा हूँ मैं
मुस्कराहट भी नहीं आँखों में आंसू भी नहीं 

जिन निगाहों की कशिश से खिंच के आ जाते थे तुम 
क्या करू मेरी नज़र में अब वो जादू भी नहीं 

तर्क- ए -उल्फत का इरादा तो किया मैंने मगर 
ख़ुद पे मेरा बस नहीं और दिल पे भी क़ाबू नहीं

रोते रोते हो गयी हैं खुश्क आँखे क्या करू
दर्द के इज़हार को आँखों में आंसू भी नहीं

क्या कहे ये दूरियां किस्मत का सारा खेल हैं
सच तो ये है बेवफ़ा मैं भी नहीं तू भी नहीं

अपने ग़म का ए 'सिया' कुछ इस तरह रक्खा भरम
रो रहा है दिल मगर आँखों में आंसू भी नहीं

Gair kee kya baat keeje apna jab too bhee naheen
Ab sunhare khwaab ka aankhon mein jugnoo bhee nahi

Kya bataooN aaj kal kis haal meN zindah hooN maiN
Muskurahat bhi nahiN aankhoN men aansu bhi nahi

Jin nagaahoN ki kashish se khinch ke aa jaate the tum
Kya karooN meri nazar meN ab woh jaadu bhi nahiN

Tark-e ulfat ka iradah tou kiya maiN ne magar
Khud pe mera bus nahiN aur dil pe qaabo bhi nahiN



Rote rote ho gayeen hain khushk aaNkhen kya karoon
Dard ke izhaar ko aankho'n mei'n aa'nsoo bhee nahi

Kya kahen yeh dooriyaN qismat ka sara khel haiN
Sach tou yeh hai befawa maiN bi nahiN too bhi nahiN

Apne Gham ka e :Siya: kuch is tarah rakhkha bharam
ro raha hain dil magar aankho'n mein aa'nsoo bhi nahi

..

1 comment:

  1. kitna dard bhara hai ek ek shabd me.....
    siya why r u so rude to yourself....
    anyway....

    ReplyDelete