Saturday, 7 April 2012

आग पानी हवा जरा मिट्टी और है जिस्म के मकान में क्या


ये ना देखो की है बयान में क्या 
उसने लिक्खा है मेरी शान में क्या 

सच कहा जाये सच सुना जाये 
ऐसा होता है इस जहान में क्या 

रंग क्यूं उड़ गया है चेहरे का 
ये सबा कह गयी है कान में क्या 

जंग की ख़ू नहीं हैं ग़र तुमको
 तीर ख़ुद आ गया कमान में क्या 

तुम तो मंज़र कशी में माहिर हो 
अब दही जम गया ज़बान में क्या 

तुम मुझे रोक पाओगे बोलो 
पावं रख दू मैं आसमान में क्या 

तेरे बारे में कुछ न लिक्खू तो 
और लिखू मैं दास्तान में क्या 

आग पानी हवा जरा मिट्टी
 और है जिस्म के मकान में क्या 

मुझको रहना है ए सिया कुछ दिन
तन की मिट्टी के मर्तबान में क्या .....
ye na dekho ki hain bayan mein kya
 usne likha hain meri shan mein kya

jinki fitrat mein jhooth shamil ho
 unke dil mein hain kya jabaan mein kya


sach kaha jaye sach suna jaye
aisa hota hain is jahan mein kya


rang kyun ud gaya hai chehre ka
ye saba kah gayi hai kaan mein kya


ghar waheen hain jahan mohbbat hai
warna rakha hain is makaan mein kya


apna rishta kabhi ka tute gaya 
ab tere mere damiyaan mein kya


tum to manzar kashi mein mahir the
ab dahi jam gaya juban mein kya


tu mujhe rok paoge bolo
pavn rakh du main aasman mein kya


jung ki khoo nahi hain gar tumko
 teer khud aa gaya kamaan mein kya

 tere bare mein kuch na likhu tu
main likhu apni dastaan mein kya

aag pani hava jara mitti
aur hain zism ke maakan mein kya


mujhko rahna hai aye siya kuch din
tan ki mitti ke martbaan  mein kya



1 comment:

  1. तेरे बारे में कुछ न लिक्खू तो
    और लिखू मैं दास्तान में क्या

    tu kalam tu dawaat tu hi safa hai
    tere siva duniya me bacha kya hai

    Siya aaap bahut khoob likhti hai...mera salaam kubool farmayen

    ReplyDelete