Saturday, 7 April 2012

दामन को पाक़ रखिये गुनाहों के दाग़ से


कैसे निकले उसका तसव्वुर दिमाग से 
जिसने हमें निकल दिया दिल के बाग़ से 

काजल की कोठरी से निकलता हैं कौन साफ़ 
दामन को पाक़ रखिये गुनाहों के दाग़ से 

देखो मुझे तुम्हारा भी अंजाम है यहीं 
आवाज़ आ रहीं है ये बुझते चराग़ से 

हम दिल से काम लेते हैं सुन के दिमाग की 
तुमने हमेशा काम लिया है दिमाग से 

Kaise nakaleN uska tasawwur dimagh se
Jis ne hameN nikal diya dil ke bagh se


Kajal ki kothree se nikalta hai kaun saaf
Daaman ko pak rakhiye gunahooN ke daagh se

Dekho mujhe tumhara bhi anjam hai yehee
aawaz aa rahee hai yeh bujhte charagh se

Hum dil se kaam lete haiN sun ke dimag ki
Tum ne hamesha kaam liya liya hai dimagh se


No comments:

Post a Comment