Saturday, 7 April 2012

न मेरा हाल भी पूछा किसी ने


सितम ढाया है मुझ पर हर किसी ने 
बहुत उलझा दिया है ज़िन्दगी ने 

अगर संवेदना दिल में नहीं है
 तो फिर तू लाख जा काशी मदीने 

बिखर जाये न मेरा आशियाना
 बड़ी मुश्किल से तिनके तिनके बीने 

सभी की है यहाँ अपनी ही दुनिया
न मेरा हाल भी पूछा किसी ने 

कभी पल भर को घर में भी रहा कर
 किया रुसवा तेरी आवारगी ने 

मेरे मांझी ये तेरा ही करम है
 किनारों पर भी डूबे हैं सफ़ीने

sitam dhaya hai mujh par har kisi ne 
bahut uljha diya hai zindgi ne 

agar samvedna dil mein nahi hai
to fir tu lakh ja kashi madeene 

bikhar jaye n mera ashiyana
 badi mushkil se tinke tinke beene 

sabhi ki hai yahan apni hi duniya
 n mera haal bhi pucha kisi ne 

kabhi pal bhar ko ghar mein bhi raha kar
kiya rusva teri awargi ne 

mere manjhi ye tera hi karam hai
kinaro par bhi doobe hain safeene 

No comments:

Post a Comment