Friday, 18 November 2011

नए ज़माने का बच्चा कमाल करता है



जरा सी बात पे इतने वबाल करता है 
वो इस कदर मेरा जीना मुहाल करता हैं

हर एक बात पे सौ सौ सवाल करता है 
नए ज़माने का बच्चा कमाल करता है 

वो बाज़ आएगा ए दिल न अपनी आदत से  
तू किस उम्मीद पे शौक़ -ए -विसाल करता है 

पशेमां खुद भी  है वो अपनी बेवफाई पे 
वो जुल्म करता है और फिर मलाल करता है  
  
पसीना बनके जो उभरा है मेरे माथे पर 
यही लहू मेरी रोजी हलाल करता है

हमेशा उसने नवाज़ा हैं दर्द _ओ_ ग़म से मुझे 
वो मेरे शौक का कितना खयाल करता हैं

जो थाम लेता है खुद बढ़के हाथ मुफलिस के 
खजाने उसके खुदा मालामाल करता है

सिया मैं क्या कहू अब और उसके बारे में
वो नेकियां भी बड़ी बेमिसाल करता है


2 comments:

  1. शिया जी
    एक बार फिर अच्छी रचना
    बहुत बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  2. lot of thanks for your nice appreication.MAHENDER JI ..GOD BLESS U

    ReplyDelete