Wednesday, 16 March 2016

ghazal

छोड़ के अपनों को जो आई 
उसकी क़द्र न की हरजाई
जिसने दुनिया तेरी बसाई
उसमें ढूंढ़ी सिर्फ बुराई
मेहबूबा पर पढ़े क़सीदे
घर की ज़ीनत नज़र न आई
तूने अपनी ऐश की ख़ातिर
अपनी दौलत खूब लुटाई
और किफ़ायत करके उसने
बरती तेरी नेक कमाई
लाज का घूंघट काढ के जिसने
दोनों घर की लाज बढ़ाई
जिसने जीवनसाथी बनकर
मरते दम तक खूब निभायी
कसे चुटकले सबने उसपर
सबने उसकी हँसी उड़ाई
chhor ke apno ko jo aayi
uski qadr n ki harjaayi
jisne duniya teri basayi
usmein dhudhi sirf buraayi
mehbooba par padhe qaseede
ghar ki zeenat nazar n aayi
tune apni aish ki khaatir
apni daulat khoob lutaayi
aur qifayat karke usne
barti teri nek kamaayi
laaj ka ghunght kaadh ke jisne
dono ghar ki laaj badhayi
jisne jeevan saath ban kar
marte dam tak khoob nibhayi
kase chutkale sabne us par
sabne uski hansi udaaayi

No comments:

Post a Comment