Tuesday, 15 March 2016

रास आने लगी असीरी भी

छोड़ी जिसके लिए अमीरी भी
रास आई न वो फ़क़ीरी भी
क़ैद से हम रिहाई क्या मांगे
दिल को भाने लगी असीरी भी
मेरी फितरत में दोनों शामिल हैं
बादशाही भी और फ़क़ीरी भी
चंद सांसे भी कब ख़रीद सके
काम आई कहाँ अमीरी भी
काट दे तेरी जुस्तजू में सिया
ये जवानी भी और पीरी भी
chori jiske liye ameeri bhi
raas aayi n wo faqeeri bhi
qaid se hum rihaai kya mange
dil ko bhane lagi aseeri bhi
meri fitrat mein dono shamil hain
baadshahi bhi aur faqeeri bhi ..
chand sanse bhi kab khreed sake
kaam aayi nahi ameeri bhi
kaat de teri justjoo mein siya
ye jawani bhi aur peeri bhi
siya

No comments:

Post a Comment