Friday, 14 February 2014

मैंने चाहत का ख़ुदा तुझको बना रक्खा है
तेरे क़दमों में सर अपना झुका रक्खा है

सब्र है जिस में मोहब्बत है वफ़ा भी दिल में
एक औरत ने ही घर,घर को बना रक्खा है

दिल में जिसकी न मुरव्वत है न आँखों में लिहाज़
कोई बतलाये के इस दुनिया में क्या रक्खा है

जिसके दिल में है मोहब्बत वही बसता है ख़ुदा
फिर क्यों दुनिया ने ख़ता इसको बना रक्खा है

झूठी खुशियों का ठिकाना भी नहीं है कोई
हमने ग़म को न कभी दिल से जुदा रक्खा है

फिर वोही ख्वाब से टूटे है मेरी आँखों से
हमने मुद्दत से जिसे दिल में बसा रक्खा है

तुझसे मिल पाऊ ये अब ख्वाब सा लगता है कोई
दिल का दर फिर भी अभी हमने खुला रक्खा है

अपने दिल से मैं बता उसको निकालू कैसे
जिसको दिन रात ख्यालों में बसा रक्खा है

दोस्त बन बन के कुरेदो न मेरे ज़ख्मों को
मैंने सीने में बड़ा दर्द छुपा रक्खा है

मुझको दुनिया की समझ आई नहीं है अब तक
उसका हर झूठ क्यों सच मैंने बना रक्खा है

क्या बताऊ ये सिया दिल पे है गुज़री क्या क्या
दिल पे हैरत ने अजब रंग जमा रक्खा है

maine chahat ka khuda tujhko bana rakkha hai
tere qadmon mein yeh sar apna jhuka rakkha hai

sabr hai jis mein mohbbat hai wafa bhi dil mein
ek aurat ne hi ghar, ghar ko bana rakkha hai

dil mein jiski na murawat hai na aankho mein lihaz
koi batlaye ke is duniya mein kya rakkha hai

jiske dil mei hai mohbbat waheen basta hai khuda
phir kyo duniya ne khata isko bata rakkha hai

jhoothi khushiyon ka thikana bhi nahi hai koyi
humne gham ko na kabhi dil se juda rakkha hai

phhir Wohi Khwaab Se Toote Hai Meri Aankhon se
humne muddat se jise dil mein saja rakkha hai

tujh se mil pau ye ab khwaab sa lagta hai koyi
Dil ka Dar phir bhi abhi humne khula rakkha hai

Apne dil se main bata usko nikaalu kaise
jisko din raat khayaalon mein basa rakkha hai

dost ban ban ke kuredo nah mere zakhmo ko
maine seene mein bada dard chupa rakha hai

mujhko duniya kee samajh aayi nahin hai ab tak
uska har jhooth kyu sach maine bana rakkha hai

kya batau ye siya dil pe hai guzari kya kya
Dil Pe Hairat Ne Ajab Rang Jama Rakha Ha

No comments:

Post a Comment