Wednesday, 15 January 2014

...nazm....aitraf....

कब कहा मैंने खूबसूरत हूँ 
बस वफ़ा कि मैं एक मूरत हूँ 
दिल मेरा फूल से भी नाज़ुक है 
दर्द दुनिया का जिसमें रहता है
इन निगाहों में तो मेरी हर दम 
दर्द का ग़म का दरिया बहता  है 
कोई हीरा नहीं हूँ पत्थर हूँ 
कब कहा मैंने खूबसूरत हूँ 

मेरे अपनों का इक ग़ुरूर हूँ मैं 
कब कहा तुमसे कोई हूर हूँ मैं 
ज़हर नफरत का सबसे पाया है 
मैंने बस प्यार ही लुटाया है 
साथ रक्खी है अपनी ख़ुद्दारी 
और निभाती रही रवादारी 
वास्ते तेरे इक ज़रूरत हूँ 
कब कहा मैंने खूबसूरत हूँ 

kab kaha maine khoobsurat hoon
bus wafa ki main ek murat hoon 
dil mera phool se bhi nazuk hai 
dard duniya ka jis mein rahta hai 
in nigahoN mein to meri  har dam
dard ka gham ka dariya bahta hai 
koyi heera nahiN hoon patthar hoon 
kab kaha maine khoobsurat hoon 

mere apno ka ik ghurur hun main 
kab kaha tum se koi hoor hun main 
zehr nafrat ka sabse paaya hai 
maine bus pyaar hi  lutaya hai 
saath rakkhi hai apni khuddari 
aur nibhati rahi rawadaari
waste tere ik zarurat hoon 
kab kaha tha ki khoobsurat hoon

No comments:

Post a Comment