Tuesday, 29 October 2013

मुद्दत से अपने आप को भूली हुई हूँ मैं

रिश्तों कि कायनात में सिमटी हुई हूँ मैं 
मुद्दत से अपने आप को भूली हुई हूँ मैं 

गो ख़ुशनसीब हूँ मेरे अपनों का साथ हैं 
तन्हाइयों से फिर भी क्यों लिपटी हुई हूँ मैं 

दम घोंटती रही  हूँ तमन्ना का हर समय 
इन हसरतों की क़ब्र सजाती रही हूँ मैं 

आती है याद आपकी मुझको कभी कभी 
ऐसा नहीं कि आपको भूली हुई हूँ मैं 

उस चाराग़र को ज़ख्म दिखाऊ या चुप रहूँ 
इस कश्मकश में आज भी उलझी हुई हूँ मैं 

हूँ फिक्रमंद आज के हालात देख कर
बेटी कि माँ हूँ इस लिए सहमी हुई हूँ मैं 

 जज़्बात कैसे नज़्म करू अपने शेर में 
कब से इसी ख्य़ाल में डूबी हुई हूँ मैं 

बेकार ज़िंदगी में ये कैसी ख़लिश सिया
सब कुछ मिला है फिर भी कमी ढूढ़ती हूँ मैं 


rishtoN ki kaynaat mein simti hui hooN main 
muddat se apne aap ko bhuli hui hooN main 

go Khushnaseeb HooN mere apne ka sath hai 
tanhaiyoN se fir bhi kyuN lipti hui hooN main 

dam ghont'ti rahi hooN tamnna ka har samay 
in hasratoN ki qabr sajaati rahi hooN main 

aati hai yaad aapki mujhko kabhi kabhi 
aisa nahiN ki aapko bhuli hui hoon main 

us charagar ko zakhm dikhauN ki chup rahuN 
is kashmaksh mein aaj tak uljhi hui hooN main 

hooN fikrmand aaj ke haalaat dekh kar 
beti ki ma hooN is liye Sehmi Hui hooN main 

 Jazbaat kaise nazm karu apne sher mein 
kab se isi khyaal mein dubi hui hooN main
bekaar zindagi mein ye kaisi khalish 'siya' sab kuch mila haiN,phir bhi kami dhudhti hoon main

No comments:

Post a Comment