Sunday, 27 October 2013

पुराना ज़ख्म फिर होगा हरा क्या

ये तुमने आज मुझसे कह दिया क्या 
पुराना ज़ख्म फिर होगा हरा क्या 

तुम अपने अज्म को मोहक़म करो ख़ुद 
किसी से माँगती हो हौसला क्या 

हमेशा ख़ुद को देखा आईने में 
तुम्हें दुनिया के ग़म से वास्ता क्या 

घने सायें हैं तेरे सर के ऊपर 
तपिश इस धूप की तुमको पता क्या

अभी तक थीं अँधेरे में सिया तुम
समझ अब आई दुनिया हैं बला क्या

ye tumne aaj mujhse kah dia kya
puarana zakhm fir hoga hara kya

tum apne azm ko mohqam karo khud
puarana zakhm fir hoga hara kya

hamesha khud ko dekho aaine mein
tumhe auron ke gham se wasta kya

ghane saayeN haiN tere sar ke upar
tapish is dhoop ki tumko pata kya

abhi tak theeN andhere mein 'siya' tum
samajh ab aayi duniya haiN bala kya ....

No comments:

Post a Comment