Sunday, 9 June 2013

जो दिल दुखाये वो किस्सा तमाम करना है

सुकूँ से जीने का फिर इंतज़ाम करना है 
जो दिल दुखाये वो किस्सा तमाम करना है

जो नफ़रतों की फ़ज़ाओं में साँस लेते हैं
मोहब्बतों से उन्हें भी गुलाम करना है

अजीब है वो जिसे दोस्ती के परदे में
हमारे ख़्वाब हमी पर हराम करना है

हमारा अज्म हमें सुख दिलाएगा इक रोज़
हमें दुखों को खुद अपना गुलाम करना है

हमें सभी से रवादारियां निभाते हुए
हर एक शख्स को झुक कर सलाम करना है

लगा रहे हैं जो दुनिया में आग नफरत की
हमें तो उनका ही जीना हराम करना है

जो चाहते हैं सिया उनका एहतराम करे
उन्हें हमारा भी कुछ एहतराम करना है

sukoon se jeene ka fir intzaam karna hai
jo dil dukhaye wo qissa tamam karna hai...

jo nafraton ki fazaon mein sans lete hain
mohbbton se unhe bhi gulaam karna hai

ajeeb hai wo jise dosti ke parde mein
hamre khwaab hami par haraam karna hai

ha mara azm hame'n sukh dilayega ik roz
hame dukho'n ko khud apna gulaam karna hai

hame sabhi se rawadariyaan nibhate hue
har ek shkhs ko jhuk kar salaam karna hai

laga rahe hain jo duniya mein aag nafrat ki
hame to unka hi jeena haraam karna hai....

jo chahte hai Siya unka ehtraam kare
unhe hamara bhi kuch ehtraam karna hai

No comments:

Post a Comment