Saturday, 2 March 2013

पर ये सच है की तुझे याद बहुत आयेगे


हँसते हँसते तेरी दुनिया से चले जायेगे 
पर ये सच है की तुझे याद बहुत आयेगे 

खाक़ से उट्ठे इसी खाक़ में मिल जायेगे 
ढूंढने वाले हमें ढूढ़ नहीं पायेगे 

जिंदगी हद्द से गुज़र जाए तेरे ज़ुल्म ओ सितम 
अपने लब पर कभी फ़रियाद नहीं लायेगे 

क्या किसी को मैं बताउंगी उदासी का सबब 
ज़ख्म जो सूख गए हैं सभी छिल जायेगे

मैंने छोड़ा ही नहीं सब्र का दामन अब तक 
एक दिन अश्क़ मेरे हक़ मेरा दिलवायेगे 

इक नज़र देख ले मुड़ के वो हमारी जानिब 
दिल के मुरझाये हुए फूल भी खिल जायेगे 

ग़र ज़बां खोली तो खुल जाएगा हर राज़ तेरा 
और जो ख़ामोश रहे बेवफा कहलायेगे 

आपको हम कभी रुसवा नहीं होने देगे 
आपके सर की कसम आप ही मिट जायेगे 

सोच कर आज सिया मुझको हंसी आती है 
बदनुमा लोग मुझे आईना दिखलायेगे 

haNste haNste tiri duniya se chale jayenge
par ye sach hai ki tujhe yaad buhat aayeNge
khak se utthe isi khak men mil jayeNge
dhoondne wale hameN dhoond nahiN payeNge
zindagi had se guzar jayeN tire zulm o sitam
apne lab par kabhi faryad nahiN layeNge
kya kisi ko meN batauNgi udasi ka sabab
zakhm jo sookh gaye hen sabhi chhil jayeNge
maiN ne chhoda hi nahi sabr ka daman ab tak
ek din ashk mire haq mira dilwayeNge
ik nazar dekh leN mud kar wo hamari janib
dil ke murjhaye hue phool bhi khil jayeNge
gar zabaN kholi to khul jayega har raaz tera
or jo khamosh rahe be wafa kehlayeNge
aap ko ham kabhi ruswa nahiN hone deNge
aap ke sar ki qasam aap pe mit jayeNge
soch kar aaj "siya" mujh ko haNsi aati he
badnuma log mujhe aaina dikhlayeNge.....

siya


No comments:

Post a Comment