Saturday, 23 March 2013

मनाना तब ख़ुशी जब हम न होंगे

मेरे मरने पे भी मातम न होंगे 
मनाना तब ख़ुशी जब हम न होंगे 

वफ़ादारी का दावा तुम न करना 
दिए सदमे जो तुमने कम न होंगे 

ग़लतफ़हमी यूहीं चलती रहगी 
दिलों के फ़ासले भी कम न होंगे 

सितमगर है वो इतना जानते है 
के हम उनसे कभी बरहम न होंगे

दिलों में ग़र न पाले कोई नफ़रत
किसी घर में कभी मातम न होंगे

मिलेंगे यूं कई हमदर्द तुमको
मगर हम जैसे वो हमदम न होंगे

कोई उनका यकीन कैसे करेगा
जो अपने क़ौल पे क़ायम न होंगे ...

ग़मों से अब सिया घबराना कैसा
ये मेरे हौसले अब कम न होंगे

Mere marne pey bhi matam na hongey
manana tab khushi jab hum na hongey

wafadari ka dawa tum na karna
diye sadme jo tumne kam na honge

ghalat fahmi yunhi chalti rahegi
dilon k fasley bhi kam na hongey

sitamgar hai wo itna jante hain
Ke hum unse kabhi barham na honge

dilon mein gar na paley koi nafrat
Kisi ghar mei kabhi matam na honge

milenge yoon kayi humdard tumko
magar hum jaise wo humdam na honge

koyi unka yakeen kaise karega
jo apne qaul pe qayam na honge

ghamoN se ab siya ghabrana kaisa
ye mere housle ab kam na honge

No comments:

Post a Comment