Saturday, 23 March 2013

वो मिरे इंतेख़ाब से कम है


चलती फिरती किताब से कम है 
वो मिरे इंतेख़ाब से कम है 

डूब जाएगी अब मेरी कश्ती 
इसमें पानी भी दाब से कम है 

दिल की हसरत को आसरा न मिला 
ये हक़ीक़त तो ख़्वाब से कम है 

तुम न पढ़ पाओगे कभी मुझको
मेरा चेहरा किताब से कम है

हक़ की ख़ातिर उठाई जो आवाज़
वो किसी इंकलाब से कम है

चाहे जो कुछ हो हैसियत मेरी
हाँ मगर कुछ जनाब से कम है

मेरे सर पर मुसीबते इतनी
जिंदगी क्या अज़ाब से कम है

नोके _नेज़ा भी मेरे सीने में
तेरे कडवे जवाब से कम है

ज़ख्म जो भी मिला मुझे तुझसे
वो अभी तक गुलाब कम से है ..

chalti firti kitaab se kam hai
wo mere intekhab se kam hai

doob jayegi ab miri kashti
ismein mani bhi daab se kam hai

dil ki hasrat ko aasra na mila
ye haqeeqat to khwaab se kam hai

tum na padh paoge kabhi mujhko
mera chehra kitaab se kam hai

haq ki khatir uthayi jo aawaz
wo kisi inqlaab se kam hai

chahe jo kuch ho hasiyat meri
haan magar kuch janab se kam hai

mere sar par musibate itni
zindgi kya azaab se kam hai

noke_neza bhi mere seene mein
tere kadve jawab se kam hai

zakhm jo bhi mila mujhe tujhse
wo abhi tak gulaab se kam hai

siya

No comments:

Post a Comment