Saturday, 2 March 2013

देश लगता है मुझको गुलाम आज भी

हो रहा हर तरफ क़त्ल ए आम आज भी 
देश लगता है मुझको गुलाम आज भी

देखिये मेरे भारत में आ कर ज़रा 
रिश्ते नातो का है एहतराम आज भी

लौ चरागों की मुझको को न भाये ज़रा 
तेरे बिन सूनी सूनी है शाम आज भी

छोड़ कर ज़िस्म इक रोज़ उड़ जाएगा 
ये परिंदा तो है ज़ेर ए दाम आज भी 

इसलिए है उजाला मेरी रूह में 
मेरी धड़कन में है मेरे राम आज भी 

मुझसे ग़ाफ़िल ना हो पायेगा वो कभी 
मेरे दिल में है जिसका क़याम आज भी 

सरबलंदी ख़ुदा ने अता की सिया 
उसके दम से है ऊँचा मक़ाम आज भी 

ho raha har taraf qatl e aam aaj bhi 
desh lagta hain mujhko gulaam aaj bhi 

dekhiye mere Bharat mein aakar zara 
rishte naato ka hain ehtraam aaj bhi 

lau charagho'n ki mujhko na bhaye zara 
tere bin suni suni hai shaam aaj bhi 

chhod kar zism ik roz  ud jaayega 
ye parinda to hai zer_ e _daam aaj bhi 

isliye hai ujala meri rooh mein 
meri dhadkan mein hai mere ram aaj bhi 

mujhse gaafil na ho paayega wo kabhi 
mere dil mein hai jiska qayaam aaj bhi 

sarbalandi khuda ne ata ki mujhe 
uske dam se uncha maqaam aaj bhi ..


No comments:

Post a Comment