Saturday, 12 January 2013

बहुत उदास उजाला दिखाई देता है

घना घना जो अँधेरा दिखायी देता है 
बहुत उदास उजाला दिखाई देता है 

इसे करीब से देखो तो घिन न आ जाए
जो आदमी तुम्हे अच्छा दिखायी देता है

घने अंधेरों की चादर को चीर कर देखो
चराग़ सबको अकेला दिखाई देता है

उसे किसी से भी कुछ चाहिए नहीं शायद
हर आदमी जिसे अपना दिखायी देता है

चिता में राख धुवाँ आग की लपट और मैं
मुझे बताओ की क्या क्या दिखाई देता है

जो देखता है सभी को सिया बुलंदी से
हर आदमी उसे छोटा दिखाई देता है

ghana ghana jo andhera dikhayi deta hai
bahut udas ujala dikhayi deta hai

use qareeb se dekho to ghin na aa jaye
jo aadmi tumeh achcha dikhayi deta hai

ghane andheron ki chadar ko cheer kar dekho
charag sabko akela dikhayi dekha tha

use kisi se bhi kuch chahiye nahi shayad
har aadmi jise apna dikhayi deta hai

chita mein rakh dhuva aag ki lapat aur main
mujhe batao ki kya kya dikhayi deta hai

jo dekhta hai sabhi ko siya bulandi se
har aadmi use chota dikhayi deta hai 

No comments:

Post a Comment