Saturday, 12 January 2013

शायरी जिंदा रक्खेगी मुझको मर जाने के बाद

हौसला पाती हूँ मैं अपने को समझाने के बाद 
शायरी जिंदा रक्खेगी मुझको मर जाने के बाद 

मुन्कशिफ होती हैं दुनिया की सभी सच्चाइयां
दर्द के गहरे समंदर में उतर जाने के बाद

मैं न कहती थी संभल जाओ मगर माने नहीं
अब खुली आंखे तुम्हारी ठोकरे खाने के बाद

इश्क के तूफ़ान ने जिसको छुआ वो बह गया
ख़ुद वो पागल हो गए है मुझको समझाने के बाद

खुदबखुद पल पल महकता है मिरा अपना वजूद
उसके खुशबूं की तरह मुझ में समां जाने के बाद

मुतमइन हूँ किस क़दर इसकी है बस मुझको ख़बर
आरज़ूवें खत्म हैं सारी तुझे पाने के बाद

housla pati hoon main apne ko samjhanae ke baad
shayari zinda rakkhegi mujhko mar jaane ke baad

munkashif hoti hain duniya ki sabhi sachchaaiyaan
dard ke gahre samandar mein utar janae ke baad

main na kahti thi sambhal jao magar maane nahi'n
ab khuli aankhe tumahari thokre khaane ke baad

ishq ke tufaan ne jisko chua wo bah gaya
khud wo pagal ho gaye hai mujhko samjhane ke baad

khud ba khud pal pal mahakata hai mira apna wajood
iske khushboon ki tarah mujh mein sama'n jaane ke baad

mutmain hoon kis qadar iski hai bus mujhko khabar
arzoove'n khatm hai sari tujhe paane ke baad ...

No comments:

Post a Comment