Tuesday, 7 August 2012

वक़्त और हालात के मारो की भीड़


खानकाहों  में तलबगारों की भीड़ 
वक़्त और हालात के मारो की भीड़ 

मैं भी ज़िन्दा  हूँ अदब के शहर में
मुझसे मिलती है कलमकारों की भीड़ 

एक  भी सच्ची ख़बर मिलती नहीं 
शहर में यूं तो हैं अख़बारों की भीड़ 

कुछ नहीं बदला हमारे मुल्क में 
रोज़ बढ़ जाती हैं बेकारों की भीड़ 

देखिये तो मस्जिदों में आजकल 
ख़ूब है अल्लाह के प्यारो की भीड़ 

है हमारे शहर में चारो तरफ 
दस्तकारों और फ़नकारों की भीड़ 

ख़ाक का पैबंद हैं अब देखिये 
कल तलक़ तो थी जमींदारों की भीड़ 

हर ताल्लुक़ बिक रहा हैं अब यहाँ  
घर में दर आई है बाजारों की भीड़ 

मुझपे जब हमला हुआ तो ए सिया 
खा गयी उसको तरफदारों की भीड़ 

khanqaho'n mein talabgaaro'n ki bheed 
waqt aur halaato'n ke maro'n ki bheed 

main bhi jinda hoon adab ke shahar mein 
mujhse milti hai  kalamkaro ki bheed 

ak bhi sachchi khabar milti nahi 
shahar mein yoon to hai akhbaaro'n ki bheed 

kuch nahi badla hamaare mulq mein 
roj badh jaati hai bekaaro ki bheed 

dekhiye to aajkal maszido'n mein aajkal 
khoob hai Allah ke pyaaroo ki bheed 

hai hamare shahar mein charo taraf 
dastkaaro'n aur fankaaro.n ki bheed 

khaaq ka paiband hain ab dekhiye 
kal talaq to thi jameendaaro'n ki bheed 

har ta'aaluq bik raha hai ab yahan 
ghar mein dar aayi hai bazaro.n ki bheed 

mujhpe jab hamla hua to aye siya 
kha gayi usko tarafdaroo.n ki bheed 

No comments:

Post a Comment