Saturday, 18 August 2012

सज़दे बता रहे हैं मिरी बंदगी का राज़

मेरी इबादतों में छिपा है ख़ुशी का राज़ 
सज़दे बता रहे हैं मिरी बंदगी का राज़ 

ए रह _रवानी शौक़ संभल कर क़दम बढ़ा
तू जानता नहीं है अभी रहबरी का राज़

महसूस कर रही हूँ बदन की हरारतें
मैं जानती हूँ रूह की पाकीज़गी का राज़

जो हो सके तो ग़म में ख़ुशी को तलाश कर
मुमकिन है क़ह्क़हों में मिले ज़िन्दगी का राज़

दर दर भटक रही हैं जो मेरी मुसाफतें
मैं सोचती हूँ क्या है मेरी गुमरही का राज़

मिल कर किसी बुज़ुर्ग से महसूस ये हुआ
लम्हों में क़ैद हो गया जैसे सदी का राज़

किसको तलाश करती हैं बीनइयां मिरी
मुझ पर खुला नहीं है मेरी दीदनी का राज़

लोगो ने तेरा ग़म मेरे चेहरे से पढ़ लिया
महफूज़ रख न पाई 'सिया' आशिकी का राज़

miri ibadatoo'n mein chipa hai khushi ka raaz
sazde bata rahe hai'n meri bandagi ka raaz

A reh _rawaani shauq sambhal kar qadam badha
tu jaanta nahi hai abhi rehbari ka raaz

mehsus kar rahi hoon badan ki haraarate'n
main jaanti hoon rooh ki paqazagi ka raaz

jo ho sake to gham mein khushi ko talaash kar
mumqin hain qahqahoo'n mein mile zindgi ka raaz

dar dar bhatak rahi hain jo meri musafate'n
main sochti hoon kya hai meri gumrahee ka raaz

mil kar kisi bujurg se mehsus ye hua
lamho'n mein qaid ho gaya jaise sadi ka raaz

kisko talash karti hai'n beenaiyaa'n miri
mujh par khula nahi hai meri deedani ka raaz

logo ne tera gham mera chehre se padh liya
mehfuz rakh n paayi 'siya' aashiqi ka raaz

No comments:

Post a Comment