Monday, 4 June 2012

अश्कों ने लिख दी रुदाद

करती हूँ जब रब को याद 
दिल ख़ुद हो जाता है शाद

लफ्ज़ नहीं है ये फ़ौलाद
इनको चोट रहेगी याद

नेक अमल से जीवन की
बढती जाती है मीयाद

पड़ती हूँ जब मुश्किल में
होती है ग़ैबी इमदाद

नामौजूं कहले फिर देख
दुनिया है कितनी जल्लाद

मुल्ला पंडित दोनों ही
क्यूं भड़काते है उन्माद

पढ़ सकते हो तो पढ़ लो
अश्कों ने लिख दी रुदाद

शेर कहे तो हुआ यकीं
"सिया" को मिल जाएगी दाद

karti hoon jab rab ko yaad
dil khud ho jata hai shaad

lafz nahi hai ye faulaad
inko choot rahegi yaad

nek amal se jeevan ki
badhti jaati hai meeyaad

padti hoon jab mushkil mein
hoti hai gaibi imdaad

namauju kah le fir dekh
duniya hai kitni jallad

mulla pandit dono hi
kyun bhadkaate hai unmaad

padh sakte ho to padh lo
ashko ne likh di rudaad

sher kahe to hua yakee'N
siya ko mil jayegi daad ....

1 comment:

  1. लफ्ज़ नहीं है ये फ़ौलाद
    इनको चोट रहेगी याद

    bahut sambhal kar inka istemaal karna
    kyonki chot to sach me bahut gahri karte hai ye!!!

    ReplyDelete