Friday, 29 June 2012

ज़िन्दगी तुझसे तो हर तरह निभाया हमने


इक महल ख्वाब का आँखों में सजाया हमने...
ज़िन्दगी तुझको तो बस ख़्वाब में देखा हमने

शिकवा ए दिल भी करू तुझसे बता कैसे करू
खो दिया खुद को मगर तुझको न पाया हमने

रिश्ता _ए _दर्द समझ कर ही निभा लेना था
ज़िन्दगी तुझसे तो हर तरह निभाया हमने 

ढूढती फिरती है तुझको मेरी वीरान नज़र
इस ज़माने में कोई तुझसा न पाया हमने

उनकी बक्शी हुई सौगात समझ कर ए सिया 
अपनी तन्हाई को सीने से लगाया हमने ....


ik mahal khwaab ka aankho mein sajaya humne
zindgi tujhko to bus khwab mein dekha humne


shikwa e dil bhi karun tujhse bataa kaise karun
kho diya khud ko magar tujhko n paya humne

rishta e dard samajh kar hi nibha lena tha
zindgi tujhse to har tarah nibhaya humne

dhudhti firti hai tujhko meri veeran nazar
is zamaane mein koyi tujhsa n paya humne

unki bakhshi hui saugaat samajh kar e siya
apni tanhayi ko seene se lagaya humne

No comments:

Post a Comment