Monday, 30 April 2012

मगर ये राज़ न पूछो बहार है की नहीं


मेरी तरह ही तेरा हाल ए ज़ार है की नहीं 
के तेरे दिल में भी तस्वीर ए यार है के नहीं 

किसी को देखा था मुद्दत हुई नज़र भर के 
ये क्या बताऊ अभी तक ख़ुमार है के नहीं 

बहुत अजीब सा मौसम है दिल के गुलशन में 
मगर ये राज़ न पूछो बहार है की नहीं 

वो एक  पल भी गुज़रता नहीं था जिसके बगैर 
वो पूछता है मुझे उस से प्यार है की नहीं

 न सोच कितना गुलिस्तां पे है हमारा हक़ 
ये  सोच हम पे चमन का उधार है की नहीं 

वो एक बार ही ए काश देखता मुड़ के 
बगैर उसके सिया बेक़रार है की नहीं 

Meri tarah hi tera haal e zaar hai ke nahin
Ke tere dil men bhi tasveer e yaar hai ke nahin

Kisee ko dekha tha muddat huwee nazar bhar ke
ye kya batoon abhi tak khumar hai ke nahin

bahut ajeeb sa mausam hai dil ke gulshan meN..
.magar yeh raz na poocho bahar hai ke nahin

woh ek pal bhi guzarta nahin hai jis ke baghair
Woh poochta hai mujeh us se pyaar hai ke nahin

N soch kitna gulsitaan per hai hamara haq..
...yeh socho hum pe chaman ka udhar hai ke bahin

Woh ek baar hi ai kaash dekhta mud kar
..baghair uske SIYA beqaraar hai 

1 comment:

  1. न सोच कितना गुलिस्तां पे है हमारा हक़
    ये सोच हम पे चमन का उधार है की नहीं

    sach siya....kuch lamhe aise hote hai jinka karz kabhi ada nahi kiya jaa sakta.
    Bahut Khoob

    ReplyDelete