Wednesday, 14 March 2012

आदमी को हर तरह बांटा गया


इक शजर सरसब्ज़ था,काटा गया
आदमी को हर तरह बांटा गया

मिट गए दिल के सभी शिकवे _गिले
दूरियां को प्यार से पाटा गया

कोई मामूली न थी सतही चुभन
दिल की गहराई तलक काँटा गया

दिल में फिर उम्मीद की शम्में जली
बज उठी शहनाई,सन्नाटा गया

सोचती हूँ क्यूं सिया केवल मुझे
आज़माइश के लिए छांटा गया

No comments:

Post a Comment