Tuesday, 21 February 2012

है पास तेरे मेरा यह सामान अभी तक


वह शख़्स लगे है मुझे अनजान अभी तक
 उससे है कुछ अधूरी सी पहचान अभी तक

है आज भी आँखों में मेरी अश्क की दौलत 
उतरे ही नहीं आपके एहसान अभी तक

ख़ुद भूखे हैं पंछी को खिलाते हैं वो दाना 
दुनिया में कुछ ऐसे भी हैं इन्सान अभी तक 

माना के हमेशा से मेरी जेब है ख़ाली
रक्खा है बचा कर मगर ईमान अभी तक

है उस को ख़बर नेकी ही काम आएगी इक दिन
 क्यूँ नेकी से बचता है यह इंसान अभी तक

कुछ शिकवे तो कुछ बीते हुए वक़्त की यादें 
है पास तेरे मेरा यह सामान अभी तक

आया था बहुत पहले जो इस दिल के मकां में
मुद्दत से "सिया" है वो ही मेहमान अभी तक

No comments:

Post a Comment