Wednesday, 17 August 2011

शाम को भी जो घर नहीं आई


उफ़ मैं इतना भी कर नहीं पाई
प्यार में तेरे मर नहीं पाई


सबका ग़म बांटती रही अब तक
अपने ग़म से उबर  नहीं पाई


जिंदगी तुझसे हूँ मैं शर्मिंदा
रंग जो तुझ में भर नहीं पाई


मैंने इक इक शय  संवारी हैं
सिर्फ किस्मत संवर नहीं पाई


मैंने उल्फत निभाई हैं तुझसे
तुमसे लेकिन वफ़ा नहीं पाई  


कितनी मज़बूत है ये आस मेरी
टूट कर भी बिखर नहीं पाई


मैं हूँ इक ऐसी सुबह की भूली
शाम को भी जो घर नहीं आई


कह तो ली  हैं ग़ज़ल सिया तुने
रंग शेरो में भर नहीं पाई


Uff main itna bhi ker nahiN payee
Pyar men tere mar nahiN payee


Sub ka gam banTtee magar ab tak
Apne Gham se ubhar nahin payee


Zindagee tujh se hooN main sharmindah
RuNg jo tujh meN bhar nahiN payee


maine ulfat nibhayi hain tujhse
tumse lekin  wafa nahi payi


MaiN ne ek ek shay saNwari hai
Sirf qismat sanwar nahiN payee


Kitni mazboot hai yeh meri aas
TooT ker bhi bikhar nahiN payee


Main hoon ik aise subHa ki bhoolee
Sham ko bhi jog har nahiN aayee


Kah tou lee hai Ghazal “Siya” tou ne
RuNg sheroN men bhar nahin payee

1 comment:

  1. जिंदगी तुझसे हूँ मैं शर्मिंदा
    रंग जो तुझ में भर नहीं पाई

    jindagi ki itni gehri samajh ki ye panktiyaan likhne ke liye badhaai

    charandeep ajmani pithora
    9993861181

    ReplyDelete