Friday, 29 July 2011

क्यों उसे रोज़ याद आते हो

ये जो तुम मुझ पे ज़ुल्म ढाते हो
क्यों मेरा सब्र आजमाते हो

 जल ना जाये कहीं तुम्हारे हाथ '
तुम जो औरो के घर जलाते हो

इम्तिहान इश्क करने वालों का
ग़म के मारों को क्यों सताते हो

हम पे पहले भी लोग हस्ते है
क्यूँ तमाशा हमें बनाते हो

अपने आंसू का ग़म नहीं हमको
हम हैं खुश तुम जो मुस्कुराते हो

हारना जीत हैं मोहब्बत में
हार से फिर क्यों खौफ खाते हो

 
जब 'सिया' से नहीं कोई रिश्ता
क्यों उसे रोज़ याद आते हो


Yeh jo tum mujh pe zulm dhhate ho
Kya mira sabr aazmaate हो


JAL NA JAYEN KAHIN TUMHARE HAATH
Tum jo auroN ka ghar jalate ho

ImtihaN ishq kerne walon ka
Gam ke maroN ko kyuun satate ho

Hum pe pahle hi log hanste hain
KyuuN tamasha hamen banate ho

Apne aansoo ka Gham nahin hum ko
Hum hain khush tum jo muskurate ho

Haarna jeet hai moHabbat meN
Haar se phir bhi Khauf khate ho

 Jab “Siya” se nahiN koyee rishta

kyuun usey roz yaad aate ho

1 comment:

  1. जब 'सिया' से नहीं कोई रिश्ता
    क्यों उसे रोज़ याद आते हो ...

    बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल है ..सभी अ'शार लाजवाब हैं ...

    बहुत बधायी ..

    ReplyDelete