Friday, 18 March 2011

मैंनू  कल्या ना रैन देण यादा तेरियां
नाले हंजुआ दे नाल भिजण अखां मेरियां

सारी रात  खडी मैं  ता तारया नू वेखी जावां
ताने मारे मेनू मेरी सखियाँ सहेलियां                            

तेरे नाल मेरी सारी रौनका ते खुशियाँ 
आज पेइयाँ  सूनियाँ  ने  मेरियां हवेलियाँ

टूर गया सावन  मुक्के बागान   विच फूल वे                           
कल्ले  रुल  गयी सई जान ना वे दूरियां 

बिन  तेरे  चन्ना  मेरी  रातां अन्धेरियाँ 
मैंनू  कल्या ना रैन देण यादा तेरियां

                          
सिया

No comments:

Post a Comment