Sunday, 17 November 2013

मिले दो घड़ी उनसे कुछ बात की



निकल आई सूरत मुलाक़ात की 
मिले दो घड़ी उनसे कुछ बात की 

मुसव्विर से तस्वीर कैसे बने 
थकन उसकी आँखों में है रात की 

अगर यूहीं मुँह फेर लोगो तो फिर 
नदी सूख जायेगी जज़्बात की 

हमेशा ही करते हो मनमानियां 
कभी मेरे दिल की कोई बात की

ख़ुदा का दिया सब हैं मेरे तईं
ज़रूरत नहीं मुझको ख़ैरात की

मिलन का मैं वादा वफ़ा क्या करू
झड़ी लग गई आज बरसात की

छलक आयी आँखे भी उनकी सिया
कहानी सुना दी जो हालात की......

nikal aayi surat mulaqaat ki
mile do ghadhi unse kuch baat ki 

musv'vir se tasweer kaise bane 
thakan uski aankho mein hai raat ki 

agar yuheeN mooh fer logo to phir 
nadi sukh jaayegi jazbaat ki 

hamesha hi karte ho manmaniyaaN 
kabhi mere dil ki koi baat ki 

khuda ka dia sab to hai mere taeeN 
zarurat nahi mujhko khairaat ki 

milan ka main wada wafa kya karuN 
jhadi lag gayi aaj barsaat ki 

chhlak aai aankhe bhi unki siya 
kahaani suna di jo halaat ki 

No comments:

Post a Comment