Saturday, 18 May 2013

चुपचाप दिल सुलगता है कोई धुवाँ नहीं

मेरे लिए जहाँ में सूद ओ जिया नहीं 
चुपचाप दिल सुलगता है कोई धुवाँ नहीं 

आँखे तो अपनी खोल के देखो जहाँ में तुम 
सजदे का शौक़ हो तो कहा आस्तां नहीं 

पूछा था उससे दिल तो न तोड़ेगे तुम कभी 
आँखों से उसने मुझसे कहाँ था की हाँ नहीं 

वादे सबा से मैंने कहा था की पी को ला 
सरगोशियाँ सी कान में पहुँची यहाँ नहीं 

बरसों बरस गुज़ार दिए तब पता चला 
बेगाना ये जहान कोई अपना यहाँ नहीं 

तू ज़ब्त करके रख सभी ग़म अपने ही दिल में 
समझे पराया दर्द ये ऐसा जहाँ नहीं 

ये दुनिया चार दिन का ठिकाना है दोस्तों 
कोई सदा के वास्ते आता यहाँ नहीं 

ज़ुल्मत कहीं भी रक्स न कर पाएगी जनाब 
हमने नए चराग़ जलाये कहाँ नहीं 

तुमसे बिछड़ के माँ मुझे महसूस ये हुआ 
तुम जैसा कोई सर पे मेरे सायेबान नहीं 

mere liye jahan mein sood -o_ziyaa'n nahi 
chupchap dil sulgata hai koi dhuva'n nahi'n

aankhe to apni khol ke dekho jahan mein 
sajde ka shauq ho to kahan aastan nahi'n

pucha tha usse dil to na todoge tum mira 
aankho se usne mujhse kaha tha ki haan nahi'n

wade saba se maine kaha pee ko le ke aa 
sargoshiya si kaan mein pahunchi yahan nahi ..

barso baras guzaar diye tab pata chala
begana ye jahan koi apna yahan nahi'n

tu zabt kar ke rakh sabhi gham apne hi dil mein
samjhe paraya dard ye aisa jahan nahi 

ye duniya char din ka thikana hai dosto'
koi sada ke waste aata yahan nahi'n

zulmat kaheen bhi  raqs na kar paayegi janab 
humne naye charagh jalaye kahan nahi'n 

tumse  bicchad ke ma mujhe  mehsus ye hua 
tum jaisa koi sar pe mere sayebaa'n nahi'n

No comments:

Post a Comment