Friday, 4 January 2013

मेरे हिस्से में कायनात नहीं


माँ जो तू आज मेरे साथ नहीं
मेरे हिस्से में कायनात नहीं 

तेरे आँचल में छुप के सो जाती
मेरी किस्मत में अब वो रात नहीं

जिससे पूछो वहीं ये कहता है
मुश्किलों से मुझे नज़ात नहीं

मौत से क्यूँ मुझे डराते हो
रुह को जब कभी वफ़ात नहीं

जिंदगानी में रस नहीं होगा
ग़म अगर शामिले हयात नहीं

जाने क्यूँ तुम खफ़ा हुए मुझसे
बात जैसी तो कोई बात नहीं

हूक उठती नहीं कहीं से भी
अब कोई दिल में वारदात नहीं

ma jo tu aaj mere sath nahi
mere hisse ki kainaat nahi

tere anchal mein chup ke so jati
meri kismat mein ab wo raat nahi..

jisse pucho waheen ye kahta hain
mujhkilon se mujhe nazaat nahi

maut se kyun mujhe darate ho
rooh ko jab kabhi wafaat nahi

zindgani mein ras nahi hoga
gham agar shamile hayaat nahi

jane kyun tum khafa hue mujhse
baat jaisi to koyi baat nahi

hooq uthti nahi kaheen se bhi
ab koyi dil mein wardaat nah
i---------------------------------------------------

1 comment: