Thursday, 9 August 2012

आँखों से मगर अश्क बहाना भी नहीं हैं


एहसास के ज़ख्मों को छिपाना भी नहीं हैं
आँखों से मगर अश्क बहाना भी नहीं हैं

अल्फाज़ की हुरमत कहीं तामाल ना कर दे
 तनक़ीद निगारों का ठिकाना भी नहीं हैं

हंसती हुई आँखों में छिपे दर्द को पढ़ ले 
इतना तो कोई शहर में दाना भी नहीं हैं 

बन जाए भला कैसे अभी तारिक ए दुनिया 
दुनिया को अभी ठीक से जाना भी नहीं हैं 

सच्चाई की ख़ातिर जो उठाते थे मुसीबत 
वो लोग नहीं अब वो ज़माना भी नहीं हैं 

हर सम्त नज़र आती है तस्वीर तुम्हारी
 इस घर में कोई आइना खाना भी नहीं हैं 

हासिल अगर होती है तू ईमान गवां कर 
इस शर्त पे दुनिया तुझे पाना भी नहीं हैं .....

ehsaas ke zakhmo'n ko chipana bhi nahi hai'n
 aankho se magar ashq bahana bhi nahi hai'n 

alfaaz ki hurmat kaheen taamaal n karde 
tanqeed nigaaro'n ka thikaana bhi nahi hai'n 

hasti hui aankho mein chipe dard ko padh le
 itna to koyi shahar mein daana bhi nahi hai'n 

ban jaye bhala kaise abhi tarik_e_duniya 
duniya ko abhi theek se jaana bhi nahi hai'n

sachchyi ki khatir jo uthaate the musibat 
wo log nahi ab wo zamaana bhi nahi hai'n 

har samt nazar aati hai tasveer tumahari
is ghar mein koyi aaina khana bhi nahi hai'n 

haasil agar hoti hai tu imaan gava'n kar
 is shart pe duniya tujhe paana bhi nahi hai'n 
..................................................................

1 comment:

  1. हँसती हुई आँखों में छिपे दर्द को पढ़ ले
    इतना तो कोई शहर में दाना भी नहीं है॥ ....अच्छी ग़ज़ल। सिया जी बधाई।

    ReplyDelete