Saturday, 7 May 2011

कुछ खुशियाँ और कुछ ग़म


जीवन में कुछ खुशियाँ और कुछ ग़म होंगे
आये हैं तो....... साथ सभी मौसम होंगे

ऐसे भी हालात कभी हो सकते हैं
कांटे ज़्यादा फ़ूल ज़रा से कम होंगे

ना हो तेरे साथ कोई तो मत डरना
हम तो तेरे साथ मगर हर दम होंगे

भेद अमीरी और ग़रीबी का मिट जाये
चाहत के कुछ रिश्तें जब बाहम होंगे


सिया,





No comments:

Post a Comment