Tuesday, 10 May 2011

दिल की बात


हमको तुमसे प्यार हुआ है दिल की बात
दिल से निकली दिल की सदा है दिल की बात

मिलने की रुत यार हसीं भी होती है
हर पल इक एहसास नया है दिल की बात

कैसे बताएं अपने दिल की बात तुम्हे
नाम तुम्हारा हमने लिखा है दिल की बात

प्यार की ख़ातिर साथी एक ज़रूरी है
हमने तो बस तुमको चुना है दिल की बात

मिलने का भी वक़्त नहीं है उसके पास
उसने ज़ुल्म ये हमपे किया है दिल की बात

फ़िक्र तुम्हे अब दुनिया में किस बात की है
यार तुम्हारे नाम "सिया" है दिल की बात

No comments:

Post a Comment