Sunday, 1 May 2011

देख मेरा दीवानापन

जान से ज्यादा तुझको चाहा देख मेरा दीवानापन
तुझको अपना रब 
कर डाला देख मेरा दीवानापन 

जिसकी खातिर दुनिया के हर जुल्म सहे ख़ामोशी से
उसने कुछ ना देखा भाला  देख मेरा दीवानापन
नाज़ किया करते थे जिसपर आखिर वो ही बदला क्यूं  
कैसा आख़िर था दिलवाला देख मेरा दीवानापन

दर्द से मेरे तुझको लेना देना हैं क्या अब ज़ालिम 
तूने जब तो रूस्वा कर डाला देख मेरा दीवानापन

एक "सिया" की एक मोहब्बत एक ही दिल था सीने में
फोड़ दिया ख़ुद ही वो छाला देख मेरा दीवानापन 

सिया 

No comments:

Post a Comment