Thursday, 21 April 2011

गुज़रे ज़माने


याद हमको आज वो गुज़रे ज़माने आ गए 
जो हमें ठुकरा चुके थे हक़ जताने आ गए

अब हमें जब रास जीना उनके बिन आने लगा
ज़िन्दगी में फिर से वो हलचल मचाने आ गए

छोड़कर तन्हा जो हमको चल दिए थे राह पर
आज लौटे हैं थके से फिर सताने आ गए
आपको लगता यही था जी नहीं पायेंगे हम
देखिये हम जी रहे हैं... क्यूं रुलाने आ गए

अब "सिया' के साथ हैं उसकी ग़ज़ल ओ शायरी
हमको भी आख़िर यूँ जीने के बहाने आ गए
सिया

1 comment:

  1. Yaad tumhen jab jab bhi piya ye goojra jamana ayegaa,
    khwaab teri neendon me aakar ye taraana gayegaa

    yaadon ke sahare dhoondhoge mujhe tum, jindgee ki raahon main
    ham rahenge door jab tujhse, aur ye dil fasaana gayegaa

    hamsafar jo beech Raah me sath chhodkar chal diya
    khud hokar bechain wo ek din mujhko mannana chahega

    ye kahan mumkin ke tum bin jee sakengen ham hakeem
    dekh rahe hain kis din unko dil lutana ayega

    ReplyDelete